शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

कवि एम. "मीमांसा" जी द्वारा सुंदर रचना

दिखे  आँखें  फरेबी  सी!   
                                     
लगे   बातें   जलेबी   सी!                                        

मगर  है  ये  तुम्हारा दिल,                                   

अभी भी  एक बेबी सी!!    

      एम. "मीमांसा"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें