मंगलवार, 1 सितंबर 2020

कवि रामबाबू शर्मा जी द्वारा 'मनुहार' विषय पर रचना

.   
     
                 
                 *मनुहार*
             
             मंद मंद चली हवा,
             मन भावन मौसम..
             सब खुशी मनाओ।
            आसमान में बादल,
             प्रकृति नाचे सजकर.
             मंगल गान बजाओ।।

            पपैया की सुन के टेर,
            अमृत बूंदें जब बरसी.
            जन-जन खुशी मनाई,
            धरा पुत्र भी खिल उठा,
            हाथ जोड़  करें वंदना..
            देखो बरखा रानी आई।।

            बजे बैलों के भी घुंघरू,
            खेतों की माटी महकी..
            पक्षी कलरव तान सुनाये।
            चंहु ओर है खुशी निराली,
            घर-आंगन चिड़िया चहकी..
            मयुर मन ही मन इतराये।।
           
           रामबाबू शर्मा,राजस्थानी,दौसा(राज.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें