सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

सतीश लाखोटिया जी द्वारा खूबसूरत रचना#

॥ *सभी को* *विजयादशमी की*
            *हार्दिक* *शुभकामनाएँ* ॥

🙏मन के भाव से माँ को
 शब्द पुष्प अर्पित करने का आज अंतिम नौवॉ दिवस 🙏
           *माँ सिद्धिदात्री*

*सि*  सिर पर मुकुट 
            हीरे जड़ित सुशोभित
           छवि आपकी
           करें माँ हमें मोहित

 *ध्दी*  धीर नही
        हमको अब अम्बे
      दीन दु:खी की पुकार
       अब सुन ले

    *दा*   दाता  तू ही
            तू ही जग माता
            तेरे बिना कौन  यहाँ
         हमारी नैया पार लगाता

  *त्री*  त्रिकालदर्शीनी माँ
            त्राहि-त्राहि जो मची
           कोरोना के चक्कर में देश में
         माँ जगदम्बे 
        जाते -जाते देकर जाना            
        यह आशीर्वाद  
            फिर कभी न आयेगा
          कोई भी भीषण संकट 
        समूचे विश्व में

      सतीश लाखोटिया
      नागपुर, महाराष्ट्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें