सोमवार, 27 जुलाई 2020

गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती के अवसर पर बदलाव मंच 2 के द्वारा आयोजित कवि सम्मेलन में मां शारदे के श्रीचरणों में प्रणाम करता हुआ आप सभी का अभिनंदन करता हूं

.
            *बदलाव मंच 2*
         दिनांक - 27.7.2020
             विषय - रावण
गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती के अवसर पर बदलाव मंच 2 के द्वारा आयोजित कवि सम्मेलन में मां शारदे के श्रीचरणों में प्रणाम करता हुआ आप सभी का अभिनंदन करता हूं 
मेरी कविता..
                    *रावण*
                     ~~~~
          शिव शंकर का परम भक्त,
          महापंडित कहलाया।
          बलशाली था रावण,
          ऐसा ही बतलाया।।

          राक्षस कुल का गौरव,
          राजा वैभवशाली।
          मदमस्त था वो योद्धा,
          आंखें भी मतवाली।।

          अपनी बात पर अडिग,
          तेजप्रतापी राजा।
          हठधर्म के आगे फिर,
          चाहे जो भी आजा।।

          जगत जननी का हरण,
          लीला थी वरदानी।
          सटीक सत्य बात यही,
          उसने मन में जानी।।

          परमधाम अभिलाषा,
          उसके मन समा गई।
          भला है अब इसी में,
          शक्ति उसे बतला गई।।

         रामबाबू शर्मा, राजस्थानी,दौसा(राज.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें