रविवार, 16 अगस्त 2020

तुम इतनी सुंदर कैसे हो?

तुम इतनी सुंदर कैसे हो?
******************************
हिमगिरि के पर्वत से उतर-उतर,
        इठलाती बलखाती सी चलती हो।
                 श्वेत-धवल पट धारण कर,
                  सिंधु-सागर के पहलू में गिरती हो।
                       कभी निर्झर बन बहती, 
                            कल-छल कल-छल।
                           वीणा-पाणी के वीणा के
                          झंकारों जैसी हो।
                      वसुधा! तुम इतनी सुंदर कैसे हो?
                  कितना अनुपम कितना अलबेला,
               चमके अम्बर पर चाँद अकेला।
             सितारों के बीच में जैसे ,
            रजनी का चितचोर।
              किरणों के रथ पर चढ़कर ,
               नव-प्रभात में आता दिनकर ।
                 चाँद छुपे रजनी के ओट में,
                     जब हो जाती है भोर।
               तू जगमग करती चाँदी के,
                अलंकारों जैसी हो।
           वसुधा!तुम इतनी सुंदर कैसे हो?
        श्वेत-धवल हिम-आकच्छादित पर्वत पर।
        धरा-गगन आलिंगन में,
            दूर क्षितिज पर मिलते दोंनों।
           सिन्दूरी आभा सजकर,
          अम्बर पर आता है दिनकर।
          ये दृश्य कितना विहंगम अद्भुत जैसे हो।
          वसुधा !तुम इतनी सुंदर कैसे हो ?
                  बीच पहाड़ो से निकल कर,
                    गंगा की धारों में बहती हो।
                       ऊपर से नीचे चंचल लहरा कर,
                           शोख अदा से मचलती हो।
              सुरीले - स्वर में संगीत मधुर गाती जैसें हो ।
                वसुधा !तुम इतनी सुंदर कैसे हो?

🎂समाप्त🎂 स्वरचित और मौलिक
                     सर्वाधिकार सुरक्षित
                  लेखिका: -शशिलता पाण्डेय

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें