रविवार, 9 अगस्त 2020

शहीदों को नमन करते हैं

"शहिदों को नमन करते हैं.."
जिंदगी प्यारी है, हम सब इन बातों को समझते है
हर मुश्किल वक्त में, वो अपनी जान पे खेलते है

महामारी की जंग में, कौन बाहर निकलते हैं?
सेवा भाव, राष्ट्र के लिए,अपने घर से चलते है

बड़ी बड़ी मुश्किलो का, वो सामना करते है
अपना ही परिवार समझके, हर जंग से लड़ते है

वो योद्धावाला जज्बा ,दिल में वो रखते है
हर दिन वो अपनी,  जिंदगी को कुर्बान करते है

हर घड़ी,हर हालातसे , कैसे वो सिद्दतसे लडते है
दूसरों की जिंदगी के लिए ,अपनी जान से खेलते है

ना भेद- भाव ,ना जातिवाद,ना कोई धर्म समझते है
फ़र्ज़ को ईमान समझके, अपना कर्म वो करते है

आप सब हो पहचान हमारी ,हम आपसे प्यार करते है
' कलम' को फक्र है शूरवीरों पे ,दिल से सलाम करते है
                                  हम शहिदों को नमन करते हैं

सुथार सुनील एच. "कलम"
एम.पी.सी.सी. भांडोत्रा, कम्प्यूटर शिक्षक
गांव-रानोल,  तहसील- दांतिवाडा ,बनासकांठा, गुजरात
मां.9979363553

Badlavmanch

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें