सोमवार, 31 अगस्त 2020

कवयित्री नेहा जैन जी द्वारा श्रृंगार रस पर आधारित रचना

मैं दे रहा हूं आवाजें उसे
जो रूठ कर मुझसे चला गया
आया था बन कर
हवा का झोंका
रुला के सबको चला गया
मिलूं कैसे तुमसे अब
छोड़ा न कोई निशान है
सज़दे तुम्हारे प्यार के
करते रहेंगे सदा
यादें तुम्हारी रोशन है
दिल मे
इनको सलामत रखेंगे सदा
साथ जो तुम छोड़ कर चले गए
हम तो तन्हा रह गए
जिएंगे फिर भी
खुद को आजमाना है 
तुमसे दूर होकर भी
तुमसे प्यार निभाना है
 लिखेंगे वो अफ़साना
जो देखेगा सारा जमाना
यही अब मुक़द्दर है मेरा
सदा होकर रहूंगा तेरा।।


स्वरचित
नेहा जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें