शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

गौमाता

मेरी यह कविता गौमाता की स्थिति और दुर्दशा पर आधारित है
 
            गौमाता
         जन जन की माता गौ माता है
 हमारा इससे पवित्र नाता है

            इस का दूध सम्स्त विश्व पीता है
दूध पी कर मानव स्वस्थ जीवन जीता है

         हम गाय को माता मानते हैं
इस का महत्व हम जानते हैं
बहुधा लोग इसे घरों मे पालते हैं

     आज गाय माता की दयनीय है दशा
होता है दिल उदास जब देखता हूँ दुर्दशा
कैसे बताउं गाय माता की व्यथा

     लोग गाय को खूब चाव से पालते हैं
खूब चारा खिला कर दायित्व निभाते हैं
गाय का दूध दो लेते हैं
भटकने के लिए छोड़ देते हैं
      
   गाय मा सड़कों पर  गली गली भटकती है
गौ माता कुड़े कर्कट पर झपटती हैं
भूख प्यास से तड़पती है
बच्चों और बूढों पर भड़कती हैं

        मन यह सोच कर दुखी होता है
यह कैसी माता है जिसका न कोई सम्मान
किस मुंह से हम बनते हैं इसकी संतान
जो देते नही गाय माता को मान
गाय संगठनों का इस और नहीं ध्यान

     गाय का सरेआम अवैध व्यापार होता है
खुले आम गाय का संहार होता है

     हमारे नेता चुनावों मे गाय का खूब उपयोग करते हैं
गौ रक्षा के बड़े बड़े वादे करते हैं
गाय सेवा का दम भरते हैं
  
      सत्ता में आते ही वादे भूल जाते हैं
सत्ता के मद मे चूर हो जाते हैं

       गौ हत्या पर रोक लगनी चाहिए
इस मानवीय मुद्दों पर एक होना चाहिए

             
              अशोक शर्मा वशिष्ठ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें