गुरुवार, 24 सितंबर 2020

2020 का अंत#बदलाव मंच#

     🐊2020 का अंत🐊
********************
 सृष्टि का सृजन अनन्त है,
       जहाँ आदि है वही अंत है।
          पतझड़ के बाद बसंत है,
             उदय जहाँ वहीँ अस्त है।
             यहाँ नादानी मत कर प्राणी,
              आदि-अंत का खेल जगत है।
                2020 का उपक्रम करोना ,
                2020 का को ही अंत है।
                 जब होगा 2020  का अंत ,
                बरसेंगी खुशियाँ अनन्त।
              आगाज, नया अच्छा होगा,
           सुन्दर होंगी फिर जग की रीत।
              नये-नये सपनें अब, होंगे,
                कोरोना काल भी जाएगा बीत।
                  सारी खुशियाँ अपनी होगी,
                     अपनी भी होगीं अब जीत ।
                        थोड़ा संयम रख ले प्राणी,
                          दुख-सुख दोंनों से कर प्रीत।
                            कल तो हमारा अपना होगा,
                              तू बन जा अभी अपनो के मीत।

               💐समाप्त💐
स्वरचित और मौलिक
सर्वाधिकार सुरक्षित 
लेखिका:-शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें