मंगलवार, 29 सितंबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा रचना

सुनों रे भाई सुनों सुनों 
               चलो रे    भाई चलो चलो 
       क्या कहता मैं सुनों सुनों 
                   जो कहता मैं करो करो 
     सत्य अहिंसा धर्म अपनालो 
            शिव पथ पर तुम चलो चलो 
     सम्यक,दर्शन,चारित्र अपनालो 
             जीवन कॊ तुम सफल करो 
      बने जहां तक  इस जीवन में 
                 औरों पर उपकार  करो 
      मेत्री प्रेम का भाव तुम रखो 
                 सदा सभी से प्यार करो 
        सुनों मेरे भाई सुनों सुनों 
             ...चलो मेरे भाई चलो चलो 
       राष्ट्र से अपने प्यार करो 
                पर्यावरण से  प्यार करो 
       सर्व धर्मो का सम्मान करो 
                 आपस में तुम नहीँ लड़ो 
       सब जीवों से प्यार करो 
                  बुजुर्गों का सम्मान करो 
      तिरंगे पर अभिमान  करो 
                    हिंदी का सम्मान करो 
      मोक्ष मार्ग पर चलो चलो 
           जो कहता" लक्ष्य" सुनों सुनों 

                       स्वरचित    निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें