बुधवार, 30 सितंबर 2020

प्रेम व्यवहार#निर्मल जैन 'नीर' जी द्वारा बेहतरीन रचना#

प्रेम व्यवहार
*******************
स्नेह दुलार~
प्रेम व्यवहार से
खुशियाँ द्वार
प्रेम हैं जहाँ~
दिलों से नफ़रत
मिटती वहाँ
छोड़ दो गुस्सा~
क्यों बनाते हो उसे
अपना हिस्सा
जग की रीत~
पराये भी अपने
प्रेम से जीत
प्रेम मिठास~
जब दिलों से मिटे
सारी खटास
*******************
निर्मल जैन 'नीर'
ऋषभदेव/उदयपुर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें