मंगलवार, 29 सितंबर 2020

मुक्तक#सुधा सेन 'सरिता 'रीवा मध्यप्रदेश जी द्वारा बेहतरीन रचना#

मुक्तक 
---------
१)
 यूँ रंज ना गहा होता ।
ये दर्द ना सहा होता ।
वजहे बेरुखी जानते- 
बेवफा ना कहा होता ।
२)
 हमारी दीवानगी को, अदा वो कहते हैं ।
हर बात पे ये बात ,सदा वो कहते हैं ।
हमारे दिल की लगी को समझते हैं दिल्लगी- 
हमें बेवफा, खुद को अलहदा वो कहते हैं ।
सुधा सेन 'सरिता 'रीवा मध्यप्रदेश

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें