बुधवार, 16 सितंबर 2020

आ. निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा सुंदर रचना

पढ़ो लिखो 

       लिखो  पढ़ो , ज्ञानी  बनो 
                    बच्चों पढ़ो आगे बढ़ो 
       पढ़ो , पढ़ो, लिखो  पढ़ो
                    बच्चों पढ़ो लिखो पढ़ो 
     देश का अभिमान   बनो 
               अच्छे तुम इन्सान बनो 
    हिंदी का  सम्मान करो 
                   बच्चों पढ़ो लिखो पढ़ो 
     लिखो पढ़ो ज्ञानी बनो 
                धरती माँ का वंदन करो 
    मात पिता की सेवा करो 
               अपना काम प्रेम से करो 
     बस्ता लेकर पढ़ने जाओ 
            गुरु अपने कॊ शीश नवाओ 
      गुरु का सदा सम्मान करो 
             पढ़ाई में तुम ध्यान   धरो 
     देश पर सदा अभीमान करो 
                भाई बहन से प्यार करो 
      सबसे अच्छा व्यवहार करो 
                 पढ़ो लिखो ज्ञानी  बनो 
     "  कलाम"बनो" राजेंद्र" बनो
          सुभाष" भगत" आजाद" बनो 
      कल का तुम इतिहास बनो 
              कल का हिंदुस्तान     बनो
    "लक्ष्य"लिखो पढ़ो ज्ञानी बनो 

     स्वरचित                    निर्दोष लक्ष्य जैन 
                                            6201698096

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें