सोमवार, 19 अक्तूबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा रचना

आओ बच्चों तुम्हें बताए 
                             बाते है ये ज्ञान की 
           इन बातों पर अमल करो 
 .                      ये बाते है अभिमान की 
   ..    जय जय हिंदुस्तान की 
                        जय जय हिंदुस्तान की 
         प्रातः उठ कर तिलक करो 
                       ये मिट्टी हिंदुस्तान की 
         माता पिता के चरण पखारो 
                         ये मूरत है भगवान की 
      .  जय जय हिंदुस्तान  की 
                      पढ़ना लिखना है जरूरी 
       बनना शान  हिंदुस्तान की 
                   गुरु चरणों मे अर्पण करदो 
       जय जय जय भगवान की 
                   आओ बच्चों तुम्हें सिखाये 
       ये बाते अपनी आन      की 
                       जय जय हिंदुस्तान  की 
      नही दौलत शोहरत की खातिर 
                पढ़ लिख कर विदेश जाना है 
      देश मे रहकर ही हमको 
                    नया भारत  बनाना      है 
      हिंदी का हमें रखना मान 
                     जन जन कॊ समझाना  है 
      आओ बच्चों हम  अपनाए 
                      ये भाषा अपनी शान की 
      जय जय हिंदुस्तान  की 
                    विजयी विश्व तिरंगा प्यारा 
      शान से नभ मे लहराना है 
                              हम शेरे हिंदुस्तान है 
      ये बाते है अभिमान   की 
                          जय जय हिंदुस्तान की 
      आपसी एकता की हमें 
                           मिसाल सदा बनना  है 
     हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई 
                         नही इंसान हमें बनना है 
     इन बातों कॊ अपनाओ "लक्ष्य" 
                           ये बाते अपनी शान की 
      जय जय हिंदुस्तान   की 
                          आओ बच्चों तुम्हे बताए 
       बाते    है ये     शान की 
                          जय जय हिंदुस्तान  की 

       निर्दोष लक्ष्य जैन 
....                       धनबाद झारखंड 
                              6201698096 
     स्वरचित

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें