शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020

कवियत्री अपराजिता कुमारी जी द्वारा रचना “मिसाइल मैन"

मंच को नमन

 #मिसाइल_मैन
15 अक्टूबर 1931 का शुभ दिन
 रामनाथपुरम,रामेश्वरम तमिलनाडु में 
जन्मे #मिसाइल_मैन 
बुलंद सोच,सादा जीवन 
नाम था इनका
#अवुल_पकिर_जैनुल्लाब्दीन_अब्दुल_कलाम 

मुश्किलों परेशानियों से जूझते 
अध्यापक सुब्रमण्यम अय्यर की बातो से प्रेरित हो 
अभियांत्रिकी की शिक्षा का मंजिल और उद्देश्य लिए
 मद्रास इंस्टीट्यूट में दाखिला लिए

 एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में अध्ययन किए 
प्रोजेक्ट डायरेक्टर बन
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में आए 

यही तो थे #मिसाइल_कार्यक्रम के जनक
 डीआरडीओ में अध्यक्ष रहे 10 सालों तक
 निभाई कई भूमिका एक साथ 
वैज्ञानिक,सलाहकार
 अग्नि,पृथ्वी मिसाइल स्वदेशी 
तकनीक से बनाए 

द्वितीय परमाणु परीक्षण पोखरण में
 निर्णायक,संगठनात्मक, तकनीकी 
भूमिका निभाई
 कई उपग्रह प्रक्षेपण किए 
जिसमें एसएलवी 3 एवं
 रोहिणी उपग्रह है मुख्य 

 कभी तमिल कविता लिखते 
कभी वाद्य यंत्र बजाते
 प्रिय थे इन्हें हर दिन
 कर्नाटक भक्ति संगीत सुनना 

21वीं सदी के भारत को समर्थ,सशक्त,सक्षम बनाने में
 रहा उनका अतुलनीय योगदान
इनके जन्म दिवस को #विश्व_छात्र_दिवस
 के रूप में पूरे विश्व में हम मनाते

 27 जुलाई 2015 की शाम 
भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग में
दे रहे थे व्याख्यान "रहने योग्य ग्रह" पर 
तभी दिल का दौरा पड़ा
 और छूटा शरीर से प्राण 

युवाओं बच्चों के हमेशा प्रिय रहे 
जीवन पर्यंत बने रहे शिक्षक 
उनके विचार,आदर्श हमारे लिए हैं 
हमेशा प्रेरणा के स्रोत..... 

 स्वरचित रचना
अपराजिता कुमारी
 प्रखंड हथुआ गोपालगंज

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें