सोमवार, 2 नवंबर 2020

सतर्क भारत समृद्ध भारत# स्वेता कुमारी जी द्वारा स्वरचित रचना#

, बदलाव मंच को नमन
दिनांक- 26/10/2020
विशेष प्रतियोगिता हेतु
विषय- सतर्क भारत समृद्ध भारत
रखो स्वछता अब हर वक़्त,
अब किसी से भी डरो ना।
सुरक्षा देखो पहले तुम अपनी,
फिर कोई और काम करो ना।

काम ना हो जब तक जरूरी,
ऐसे ही तुम बाहर घूमो ना।
खुद का ध्यान रखोगे पहले जरूरी,
तभी सबका ध्यान रखोगे ना।।

छिपाओ नहीं किसी से अपनी बीमारी,
जरूरी नहीं कि तुम्हे हो कोरोना ।
तुरंत अस्पताल जाओ दिखाने,
तभी संभव है तुम्हारा बचना।।

मास्क लगाओगे तो बचेगी सांसे,
नहीं तो झेलनी पड़ेगी  कितनी मुश्किलें।
दूरी से ही करो बात तुम सबसे,
हाथ जोड़ो और करो सबको नमस्ते।।


भारत का मान ,सम्मान बढ़ाओ ना,
स्वछता का पुरकस ध्यान रखो ना।
करो विनती भारत माता से,
हमे दे दो छुटकारा माँ इस कोरोना से।

स्वरचित रचना
स्वेता कुमारी
धुर्वा, रांची
झारखंड।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें