बुधवार, 18 नवंबर 2020

डॉ.अलका पाण्डेय जी द्वारा खूबसूरत रचना#

बदलाव मंच 
१३/११/३०२०
दीपोत्सव - 

दीपोत्सव का पर्व मनायें ।
आओ मिलकर दीप जलायें ।।

दीपोत्सव का पर्व मनायें ।
लक्ष्मी पूजन विधी से करवाये ।।
दुख सब जीवन के मिट जायें ।
अंधेरा दिलो का दूर हो जायें ।।

दीपोत्सव का पर्व मनायें ।
स्वदेशी दीपक ले कर आये ।।
ग़रीबों का रोज़गार बढ़ायें ।
मीठाईयां  घर पर ही बनायें।।

दीपोत्सव का पर्व  मनायें ।
फटाके अब नही छुड़ायें ।।
प्रदूषण से सबको बचायें ।
जन जन में जाग्रति लायें ।।

दीपोत्सव का पर्व मनायें ।
महामारी से सबको बचायें ।।
मास्क पहन कर बहार जायें ।
बच्चो को यह सब समझायें ।।

दीपोत्सव का पर्व मनायें ।
सब को ख़ुशियों से मिलवायें ।।
बड़े बुज़ुर्गों का आशीष पाये ।
स्नेहभरी झप्पी नही ले पायें ।।

दीपोत्सव का पर्व मनायें । 
चहके और सबको चहकाये ।।
दूर रह कर  ही हाथ  मिलायें । 
घर आँगन रांगोली सजायें ।।

दीपोत्सव का पर्व मनाये 
आओ मिलकर दीप जलायें ।।
डॉ.अलका पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें