मंगलवार, 17 नवंबर 2020

साधना मिश्रा विंध्य जी द्वारा खूबसूरत रचना#

नमन बदलाव मंच
राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय मंच पर आयोजित साप्ताहिक प्रतियोगिता हेतु सादर प्रेषित


दिन -बुधवार
दिनांक- 11/11/ 2020
विधा- काव्य
विषय- *दीपोत्सव*
कोरोना में दिवाली  पर्व  श्रद्धा से मनाएंगे,
खील, बताशा ,लईया, चूरा ,गट्टा संग में खाएंगे।

लड्डू- पेड़ा, पट्टी -बर्फी घर पर हम बनाएंगे,
सपरिवार लक्ष्मी गणपति पूजा का सुख पाएंगे।

आतिशबाजी से हम प्रदूषण ना फैलाएंगे,
माटी के दीपों से अपना घर सजाएंगे।

कुम्हार के बनाए दीप मोल हम लाएंगे,
इस दिवाली चाइनीस सामानो से दूरी हम बनाएंगे।

घी तेल के दीपों से मंदिर जगमग आएंगे,
सुख समृद्धि वैभव का आशीष बड़ों से पाएंगे।

घर और बाहर सफाई  स्वच्छता हम अपनाएंगे,
दो गज़ दूरी को हम हरगिज़ नहीं भुलाएंगे।


साधना मिश्रा विंध्य

मैं साधना मिश्रा विंध्य यह प्रमाणित करती हूंँ कि यह मेरी स्वरचित मौलिक रचना है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें