गुरुवार, 26 नवंबर 2020

कवि अशोक शर्मा वशिष्ठ द्वारा 'छठ पूजा' विषय पर रचना

नमन मंच
बदलाव राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मंच
दिनांक 20/11/2020
विधा।         कविता
बिषय।    छठ पूजा

छठ पूजा भारत का महत्वपूर्ण त्यौहार
सूर्य देव छठ मैय्या को समर्पित यह त्यौहार
साल मे आता है दो बार
चैत्र मास और कार्तिक मास मे मनाया जाता है त्यौहार

    सनातन काल से इसे मनाते 
श्रद्धा भक्ति से हम पूजा करते
चार दिन का है यह पर्व
आस्था श्रद्धा का है यह पर्व

    महिलाएं मंगल कामना हेतु ब्रत रखें रहें निराहार
निसंतान दंपती को मिले संतान का उपहार 
ब्रतधारी की कामनाएं होती पूरी खुशी मिलती अपार
भगवान करे भक्तों का उद्धार

   भगवान राम बनवास के बाद अयोध्या आए
ब्रह्म हत्या से कैसे मुक्ति पाए
ऋषियों से प्रभू पूंछे उपाय       ऋषियों  के सुझाव पर  राजसूय यज्ञ रचाए
मुदगिल ऋषि यज्ञ संपन्न कराए
ऋषि ने षष्ठी पूजन किया
गंगाजल छिड़क कर सीता जी को पवित्र किया
द्बापुर युग मे पांडवों ने षष्ठी पूजन  किया
मनवांछित फल प्राप्त किया

हे सूर्य देव छठ मैय्या हमारी यही है आराधना
पूरी करो सबकी कामना
कोई न दुखी रहे यही मेरी याचना

       अशोक शर्मा वशिष्ठ
मै यह घोषणा करता हूँ कि यह मेरी स्वरचित रचना है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें