मंगलवार, 24 नवंबर 2020

आ.के.जे.गड़वी जी द्वारा बहुत ही प्यारी रचना

जब  ज़िन्दगी  ही  परेशानं  करे 
 तो क्या  बेचारा  इंसान करे 

रिस्तो  ने  ही  लूट  मचाई  हो 
अपने  ही  अपना  नुकसान करे 
 
जब  भाई-भाई  का  गला  काटे 
फिर  क्या  इसमें  भगवान  करे 

 जब ज़िन्दगी  हो  रूठी-रूठी 
फिर  मौत  ही  मुस्कान  करे 

ज़मी  वाले  हो  दिल  के  दुश्मन
फिर  उसमे  क्या  आसमान  करे 

-के.जे.गड़वी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें