गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

कवि श्याम कुँवर भारती द्वारा रचना

भोजपुरी देवी पचरा गीत- करा तू अंजोर |
अब नाही अइबु त कब माई अइबु ,
बलकवा रोवे बड़ी ज़ोर |
भारती पुकारे ले अवतू ये काली माई |
जीनिगिया मे करा तू अंजोर |
सुनीला पुकार तू हमरो ये काली माई |
रहिया ना लउके केवनो ओर |
एक वर दिहा दूसर वर दिहा ,
तीसरे उद्धार करा माई मोर  |
भारती पुकारे ले अवतू ये काली माई |
जीनिगिया मे करा तू अंजोर |
चंड मुंड मरलु तू रक्तबीज मरलु ,
महिषा सुर के कइलु संघार |
दुखवा हमार कब टलबू ये काली माई |
डगमग नईया बाड़े मोर |
भारती पुकारे ले अवतू ये काली माई |
जीनिगिया मे करा तू अंजोर |
कालन के काल माई भगतन ढाल माई |
काटी अनहरिया करा तू अंजोर |
काली काली केसिया लाली लंबी जीभिया |
लहरत आवा माई होला बड़ी शोर |
भारती पुकारे ले अवतू ये काली माई |
जीनिगिया मे करा तू अंजोर |
छोडब ना चरनीया काली कलकत्ता वाली |
लाल अड़हुलवा होलु तू वीभोर |
लाल सेनुर केरा नारियर चढ़ाइब |
लाली चूड़िया खनके बड़ी ज़ोर |
भारती पुकारे ले अवतू ये काली माई |
जीनिगिया मे करा तू अंजोर |

श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी 
बोकारो झारखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें