गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

प्रकाश कुमार मधुबनी"चंदन जी द्वारा अद्वितीय रचना#

*आओ देश बदलो*

*स्वरचित रचना*
आओ बच्चों यह देश बदलो।
मिलजुल के विशेष बादलों।।
खूब ध्यान से पढ़ लिखकर।
अपने लक्ष्य हासिल कर लो।।

माता-पिता के दर्द को समझो।
समय रहते हुए सब सीख लो।।
क्या है जो तुम कर नहीं सकते।
सब कार्यों तुम शामिल कर लो।।

पर्वत सा अटल विश्वास बनाओ।
ह्रदय में पाने को एहसास जगाओ।। 
ज़िन्दगी है बहुत रोमांचकारी यू तो।
दिल की हर इच्छा तुम पूरी कर लो।।

बढ़ाओ अपने देश का मान मर्यादा।
मजबूत कर लो और अपना इरादा।।
डिजिटल इंडिया तो अपनी जगह है।               इसमें परम्परा को भी शामिल करलो।।

देश का तुमको है आगे बोझ उठाना।
अपने घर समाज का है मान बढाना।।
अगर मगर इधर उधर की बाते छोड़ दो।
दुश्मन देश को अपना दम दिखा दो।।

*प्रकाश कुमार मधुबनी"चंदन"*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें