रविवार, 20 दिसंबर 2020

डॉ मलकप्पा अलियास महेश जी द्वारा अद्वितीय रचना#

बदलाव राष्ट्रीय अंतराष्टीय मंच 

मंच को नमन 
आज का विषय :- मानव अधिकार 

कविता :- मानव अधिकार 
मानव अधिकार 
आज बना है दानव 
अधिकार |

10 दिसंबर को 
मनाते क्षण में भूल 
जाते हैं |

28 सितंबर 
1993 कानून आया 
13 अक्तुबर 1993 को 
लागू करवाया |

सब में समानता 
लाने की बातें कर जारी
किए यह अधिकार |

अधिकारशाही 
है इसके सूत्रधार सपना 
बनगए जीवन सार |

कागजों में 
लिखा है आजादी 
केे बात,मिलता नहीं 
गरीबों के हाथ |

डॉ मलकप्पा अलियास महेश बेंगलूर कर्नाटक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें