शुक्रवार, 2 जुलाई 2021

प्रकाश कुमार मधुबनी'चंदन' जी द्वारा विषय बचपन पर अद्वितीय मुक्तक#

स्वरचित मुक्तक
बच्चों के संग मैं भी बच्चा बन जाऊं तो।
फिरसे मैं भी इंसान सच्चा बन जाउ तो।
यही है ,होता कपट नही जिनके मन में।
अच्छा होगा मैं भी एक बच्चा बन जाऊ तो।

प्रकाश कुमार मधुबनी'चंदन'

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें