शुक्रवार, 2 जुलाई 2021

गुस्सा.....#निर्मल जैन 'नीर' जी द्वारा अद्वितीय रचना#

गुस्सा.....
*****************
क्या
आफ़त आई
नाक पर गुस्सा
क्यों रहता
भाई
समझ
लेना भाई
गुस्सा करो शांत
होती जग
हँसाई
मत
कर लड़ाई
भीतर लगी आग 
प्रेम पूर्वक
बुझाई
*****************
निर्मल जैन 'नीर'
ऋषभदेव/उदयपुर
राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें