शनिवार, 18 जुलाई 2020

आदि या अनन्त

                
                       आदि या अनन्त
                    प्रारब्ध अनन्त है सृष्टि का,
                  उपक्रम है तो अवसान भी है।
              है आलोकित दिनकर से अम्बर,
           सुबह अगर तो शाम भी है।
        खेल जगत का जनम -मरण,
      आना-जाना ही काम भी है।
      जीवन में कभी खुशियाँ आई,
        आना कभी गम का नाम भी है।
                धरती तपती कभी ग्रीष्म में,
                    शीतल-सावन की छाँव भी है।
                        है 'जीवन' आरम्भ धरा पर,
                             इति 'जरा' होना ही है।
                        क्षण-भंगुर मानव-तन का,
                      शाश्वत-सत्य मरण ही है।
                    धर्म-कर्म का अंत न कोई,
                 बस,वहीं जतन करना ही है।
              घिरती काली घनघोर घटा ,
           आलोकित दिनकर, होना ही है।
         कभी बवंडर हाहाकार मचाता,
         शाँत-सागर का इतिश्री ही है।
        सुख-दुख ,खुशी -गम पूरित,
      जीवन का नाम परिवर्तन ही है।
    आदि-अंत का खेल जगत,
    आना-जाना निश्चित ही है।


           💐समाप्त💐 
स्वरचित और मौलिक
                                   सर्वाधिकार सुरक्षित
                              लेखिका:-शशिलता पाण्डेय


💐 अम्बर-उत्सव💐

बोल रहे अब मोर-पपीहा,
      आज चली पुरवाई है!
          टप-टप टपाटप बरसी बूंदे,
             "अम्बर पर आज सगाई है!"
रिमझिम -रिमझिम बरसे सावन,
      गूंज उठे ब्योम शहनाई है!
            हरियाली पट धारण कर,
               वसुंधरा खिलकर मुस्काई है!
मेघ -पट ओट में रश्मि-किरण 
      छुप लाज से सिमटी- शर्माई है!
         श्वेत-धवल गजरा सा बदरा झूमे
              केश-कुसुम सजा ब्योम पर छाई है।
छेड़ रही गजब तराना कोयल,
       मीठे-स्वर में मंगल-गीत सुनाई है!
              "अम्बर पर आज सगाई है!"
                   चंचल-चपला चम-चम चमके,
खुशियों की ज्योति जलाई है!
    काले मेघ-पुष्प आँखों मे अंजन अद्भुत,
         श्रृंगार पुरित सखी पुरवाई संग आई है!
               हरियाली से झूमे वन-उपवन,
फूलों पर भी मस्ती सी छाई है!
      गुनगुन मधुकर पुष्प-पंखुड़ियों पर
           उसपर भी मौसम की खुशियाँ छाई है।
              गरज-तड़प कर बरसे बदरा ,
                  ढोल-नगाड़े सी ध्वनि सुनाई है!
  दादुर-झींगुर मधुर गीत सुनाए,
        "अम्बर पर आज सगाई है!"
           नव-पल्लव दल डोले हर्षित होकर,
                 अब सावन ऋतु मनभावन आई है!

🎂समाप्त🎂           स्वरचित और मौलिक
                                  सर्वाधिकार सुरक्षित
                        लेखिका- शशिलता पाण्डेय
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें