मंगलवार, 25 अगस्त 2020

कवि विशाल चतुर्वेदी "उमेश" जी द्वारा 'तोहमत' विषय पर रचना

तोहमत 

अगर कोई साथ हो अपना , 
तूफानों में भी शमा जलती है । 
कसूर उनकी निगाहों का हॊता है ,
तोहमत हम पर लगती है ॥ 

विशाल चतुर्वेदी " उमेश "

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें