मंगलवार, 25 अगस्त 2020

कवि डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा 'कोरोना' विषय पर रचना

सादर समीक्षार्थ 
सायली छंद 


 1 -           कोरोना 
        विश्वव्यापी महामारी
           घोषित हुई, बिल्कुल
                  मत डरो
                       बचो

2 -                कोरोना
             महामारी  बनी
           जीवन संकट में
                  हुए सभी 
                       अब

3 -           शासनादेशों
                  का पालन
           ही सर्वोत्तम उपाय
              सभी लोग
                     करो

4 ----         समाजिक 
               दूरी बनाओ
          मास्क लगाओ और
             सेनेटाइजर प्रयोग
                       करो

5 -                चीनी 
                 जीवाणु   है
          सभी मिलकर हराएंगे
                   हम जीतेंगे    
                     अवश्य

6 -                   घर 
                     पर रहो
                बाहर न जाओ 
                 जीवन बचाओ
                          सभी 

7 -                    कोरोना 
                 हारेगा निश्चित 
                 हम सभी जीतेंगे 
                   जीवन सामान्य 
                           होगा 

8 -                 समय 
              परिवर्तित होगा
             अच्छे दिन आएंगे
             जीवन मुस्कुराएंगे
                           फिर 

9 -               प्राणायाम
               करो, तनावमुक्त
               प्रसन्न रहो, बाहर
                       मत जाओ
                            तुम 

10 -                     डरो 
                        नहीं तुम
                    उपाय करो सब 
                        स्वस्थ रहो 
                               बस

 11 -                    आशा 
                       रखो सदा
                 अच्छा होगा सब 
                     खुशियां लौट 
               .          आएंगी 

12 -              निराशा
                   दूर करो 
          सकारात्मक सोच रखो
               विजय तुम्हारी 
                      होगी


 13  -       आत्मविश्वास      
                 जगाना होगा
           जीवन सुखद बनेगा
             कल्याण सबका  
                       होगा 

14 -                   सबका 
                   विकास होगा
                     कंधे से कंधा
                     मिलाकर चलो 
                              सब



डॉ राजेश कुमार जैन श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें