रविवार, 30 अगस्त 2020

कवयित्री शशिलता पाण्डेय जी द्वारा 'लेखक का सपना' विषय पर रचना

💐लेखक का सपना💐
       ******************
एक लेखक का सपना होताहै,
          दिल मे अलख जगाने' का।
एक "ज्ञान की लौ जला करके,
                 अज्ञानता दूर भगाने का।  
    नित 'नए संदेशो के द्वारा ,
                राह नई दिखलाने का।
अपनी सुन्दर शब्दों के द्वारा,
          हर दिल मे जगह बनाने' का।
नित नए ज्वलंत विचारो के जल से
           कलुषित मन स्वच्छ बनाने का,
अपने लेखन 'कथा कहानी' से
        सृजन करना उच्च विचारो' का,
पतझड़ में भी लाना मौसम'
                   नित -नए 'बहारों का'।
एक बेरंग 'सुने जीवन' मे भी
                  रोज नया रंग भरने का ,
अन्ध-विश्वाश और आडम्बर'से,
               उलझे बंधन को 'सुलझाने' का ।
''भटके -पथ'' के पथिको को
                सही राह दिखलाने का।
सभी बुराई,कुरीति-भ्र्ष्टाचार से,
                  पर्दा रोज हटाने का।
अपने सुन्दर शब्दो मे पिरोकर।
                    एक नई क्रांति लाने का।
जन-मानस के हृदय-पटल पर,
            अपनी सुन्दर छवि बनाने का ।
हर 'एक लेखक'' का सपना होता,
                    बदलाव नया एक लाने का ।
अपनाभाषा अपने विचार को
                   'जन -जन में फ़ैलाने का।
मरकर भी' इस दुनियाँ में,
                   लेखन को'अमर बनाने  का ।
हर लेखक का सपना होता है।
                   सबके मन मे बस जाने का।
समाज के असली चेहरे को
                 दर्पण एक दिखलाने का।
                            💝समाप्त💝
             
स्वरचित और मौलिक
सर्वाधिकार सुरक्षित
कवयित्री -शशिलता पाण्डेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें