शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

राष्ट्र स्वर की राष्ट्र गर्जना

बदलाव मंच के लिए
********************
शीर्षक - राष्ट्र स्वर की राष्ट्र गर्जना -

वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्
          वन्दे मातरम् की हुंकार
धरा गगन में छा जाये ,
          भारत माता की जय-जयकार
हम प्रखर तेज के साधक ,
           हैं अतुल शक्ति के आराधक
संयम अनुशासन में रहकर ,
         कर सकता हूं अरि की छाती 
                             क्षार-क्षार
धरा गगन में छा जाये ,
       भारत माता की जय जयकार
अपनी थाती पर गौरव है ,
       है सत्य आचार विचार
कंटक सारे नष्ट करेंगे ,
    ले कर राष्ट्र भक्ति का ज्वार
धरा गगन में छा जाये ,
     भारत माता की जय जयकार
राणा शिवा का रक्त हमारी ,
          रग रग में लहराये  🔥
राम कृष्ण का आदर्श हमारे ,
           ❤️ मन मंदिर गहराये
हम भागीरथ की संतानें ,
             गंगा धारा पर लाये
सत्य धर्म की रक्षा में ,
      जहां हरिश्चन्द्र बिक जाये
घमंड तोड़ने सागर का ,
           अगस्त्य जिसे पी जाये
जहां शबरी के झूठे बेर ,
             राम ने चाव से खाये
हाथ में हाथ मिला कर ,
          ❤️  हृदयों में स्नेह जगा कर
बहायें सुरभि पवन की ,
              सत्य सनातन धार
धरा गगन में गूंजे ,
          भारत माता की जय-जयकार
वैभव शिखर का हम ,
            🌹 ध्येय लक्ष्य सदा रखेंगे
श्रेष्ठ कर्म के हम ,
                डग सदा भरेंगे 🌹
जब तक श्वासों में  ,
              हमारे प्राण रहेंगे
हम तेरी अर्चना करेंगे ,
              हम तेरी वंदना करेंगे
राष्ट्र स्वर की राष्ट्र गर्जना से ,
        चंन्द्र - जाग उठे संसार 🌞
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम् ,
               वन्दे मातरम् की हुंकार
धरा गगन में छा जाये ,
       भारत माता की जय जयकार
       जय जयकार जय जयकार....
         
         चंन्द्र प्रकाश गुप्त (चंन्द्र)🌕
          अहमदाबाद - गुजरात

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें