शनिवार, 12 सितंबर 2020

विस्व गुरु बनना है# रेखा पांडेय जी द्वारा बेहतरीन रचना#

विश्व गुरु अब बनना है

बहुत हो चुका ,सबकी सुन ली 
अब अपना ही सुनना है।
दुनिया वाले ध्यान से सुन लो 
विश्व गुरु अब बनना है।

अपना सपना अपनी सेना
 बंद करें लेना और देना 
सशक्त भारत के नीव रखे हम
 स्वदेशी अपनाना है

अपनी मेहनत अपनी शक्ति 
हर जज्बे में देशभक्ति
 नदियां यहां की गंगा तो
 पत्थर यहां का शंकर है

बहुत हो चुका ,सबकी सुन ली 
अब अपना ही सुनना है।
दुनिया वाले ध्यान से सुन लो 
विश्व गुरु अब बनना है।

   रेखा पांडेय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें