रविवार, 20 सितंबर 2020

कवि प्रकाश कुमार मधुबनी जी द्वारा रचना (विषय-मुश्किल रास्ते से चल)

स्वरचित रचना

मुश्किल रास्ते से चल
बेहतर चलना सीखेगा।
समस्याओं से घिरकर
बाहर निकलना सीखेगा।।
रास्ते तो कट जाएंगे।
धुन्ध भी छट जाएगा।।
किन्तु जब नौका खेपेगा।
तो सूरज सा उगना सीखेगा।।
फूलो पे चल के क़ौमल ना बन।
अंगारों पे तपन सहन करना सीखेगा।

प्रकाश कुमार मधुबनी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें