रविवार, 20 सितंबर 2020

बेटिया#प्रियंका साव जी द्वारा खूबसूरत रचना#

बेटियाँ
पापा की जान होती है बेटियाँ 
अपने बाबूल की शान होती है बेटियाँ 
पिता जिस पर नाज कर सके 
वो प्यारी-सी मुस्कान होती है बेटियाँ ।

भाग्यशाली होते हैं वो घर 
जिनके घर जन्म लेते हैं बेटे 
और सौभाग्यशाली होते हैं वो घर
जिनके घर जन्म लेती है बेटियाँ ।

माँ के गर्भ मे आती हैं बेटियाँ 
पापा के दिल को छू जाती हैं बेटियाँ 

कल तक जो नन्ही-सी परी थी मेरी
आज वो अपना घर सजोने चली
देख नहीं सकता बिदाई मै उसकी
मेरी बिटिया परायी होने चली।

गर्भ मे *ना मारो* इनको 
इन्हीं से चलती है दुनियाँ 
दहेज के लिये ना जलाओ इनको
हमारे घर की खुशहाली है बेटियाँ ।
                                                               

प्रियंका साव 
पूर्व बर्द्धमान, पश्चिम बंगाल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें