शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

क्या क्या हमने देखा है#निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा उम्दा रचना#

क्या क्या हमने देखा है 

         देखा देखा देखा हमने देखा 
 . .                       हम से न पूछो यारों 
        क्या क्या   हमने   देखा है 
                    देखा देखा देखा हमने देखा 
         सच्चे का मुँह काला हमने 
                    झूठे का बोल बाला देखा है 
        सच्चे कॊ भूखा  मरते 
                    झूठे कॊ मौज   में देखा   है 
       भ्रष्टाचार का हमने यारों 
                 चारों और बोल बाला देखा है 
      नेताओं कॊ हमने कुर्सी 
                    के खातिर लड़ते    देखा है 
     मतलब है तो गधे कॊ 
                     हमने बाप बोलते देखा है 
     हम से न पूछो यारों 
                   क्या क्या  हमने देखा    है 
    मतलब की इस दुनियाँ में 
                    स्वार्थ का खेला देखा    है 
    भाई भाई कॊ दौलत की 
                     खातिर लड़ते  देखा    है 
    कोरोना काल में यारों 
                      भयानक मंजर देखा  है 
    सबके रहते बाप की लाश 
  ..                  लावारिस जलते देखा है 
     अखबार में फोटो की खातिर 
                        गजब नजारा  देखा  है 
    भोजन के पेकेट के  साथ 
                        फोटो खिंचवाते देखा है 
    सरकारी पेसो का 
                     जमकर दुरूपयोग देखा है 
   हमसे न पूछो यारों 
                    क्या क्या हमने देखा      है 
   महंगाई का आलम ये 
                     मत पूछो क्या क्या देखा है 
   पेट की आग बुझाने कॊ 
                      क्या क्या बिकते   देखा है 
   भूख के मारे हमने यारों 
                      बच्चों कॊ तड़पते  देखा है 
   मजदूर कॊ हमने बेरोजगारी में 
                       आत्महत्या करते देखा है 
  अखबार में सुर्खी में आता 
                सरकार कॊ दिखाई नहीँ देता है 
    हम से न पूछो " लक्ष्य " 
                   क्या क्या हमने देखा        है 
 
       स्वरचित .........निर्दोष लक्ष्य जैन 
                               6201698096

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें