सोमवार, 21 सितंबर 2020

कवि डॉ मलकप्पा अलियास महेश जी द्वारा रचना (विषय-शांति )

🙏मंच को नमन 🙏

🕊️शांति 🕊️

शांति के दिन 
मनाना है शांति से हमें |

गांधी, तेरेसा जन्मे थे, 
शांति के धूत बनकर |

बुद्ध ने शांति मार्ग 
अपनाकर विश्व को नया 
संदेश दिया |

रवींद्र जी के शांतिनिकेतन 
को विश्व स्तर पर ले 
जाना है |

आज दुनिया में हर 
तरफ अशांति फैली 
कोरोना महामारी की वजह से |

हमें जुटकर लडना है ,
आज फिर एक बार कोरोना 
को हराने हेतु  |

शांति के मंत्र को, 
जपकर हमें दुनिया में 
शांति लाना है |

🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️

डॉ मलकप्पा अलियास महेश
बेंगलूर कर्नाटक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें