शनिवार, 19 सितंबर 2020

सायली छंद-बच्चे#डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा बेहतरीन रचना#

सादर समीक्षार्थ
  विधा  -    सायली छंद 
विषय   -       बच्चे 

1   -               बच्चे
                 होते सच्चे
              ईश्वर का रूप 
              सभी बतलाते
                    उन्हें

2 -                  प्रभु 
                    आते हैं
                   बाल रूप धर   
                        इस धरा
                           पर 

3   -                      बच्चे
                             मन के   
                         होते हैं सच्चे
                            कहते हैं
                                सब

 4  -                    बच्चे
                       भगवान का
                    अवतार होते हैं
                          सभी हैं
                            मानते

5  -                            बच्चों
                               के बिना
                        जग सूना है
                          सभी मानते
                                  हैं

 6  -                       बच्चों 
                         की दुनियां
                  होती है निराली
                     जीकर तो
                              देखो

7 -               बच्चों
                    संग मैं
               भी बच्चा बन 
                   जाऊँ, खूब 
                      खेलूँ

8 -                  बचपन 
                      गया न 
              लौटा , बुढ़ापा आया
                       न    गया 
                          कभी

 9 -                     बचपन 
                           की बातें
                       याद हैं आती
                           उम्र भर
                          सालती

10 -                    बचपन 
                            की यादें
                         उम्र भर हैं
                        सताती सभी
                                  को

11 -                        सभी
                             ढूंढते हैं
                     बचपन तुझे तू
                        कहाँ गया
                              अब 

12    -     बचपन
             तुझे कहाँ
         से लाऊँ उठाकर
              एक बार
                  आजा



       डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें