शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2020

चंन्द्र प्रकाश गुप्त "चंन्द्र" जी द्वारा बेहतरीन रचना#

बदलाव राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मंच, 
दिनांक 25/26 अक्टूबर 2020

विषय - प्रतियोगिता

शीर्षक - सतर्क भारत - समृद्ध भारत
सतर्कता ही सक्रियता सुरक्षा शक्ति की पूजा है , साधना है

सतर्कता ही संयम अनुशासन से अभेद्य लक्ष्य की आराधना है

भारत को गौरवशाली , वैभवशाली और समृद्ध बनाना है

सूझ-बूझ , जागरूकता , सतर्कता से करोना को हराना है

अभी भारत में अनलॉकिंग हो रही है गतिमान निरंतर

इसीलिए करोना का प्रकोप बढ़ने की शंका भी है निरंतर

सतर्क रह कर करना होगा उद्यम, नौकरी और तिजारत

दो गज दूरी , मास्क, सैनेटाइज रहने की याद रखना है इबारत

मंदिर, मस्जिद,चर्च और गुरुद्वारा जाओ कहीं भी याद रखना है इबारत

करो स्वयं की सुरक्षा और करो नियमों का पालन तभी मिलेगी करोना से राहत

करोना को हराना है भीड़ भाड़ से दूर रहने की डालना है आदत

देश जीतेगा तभी जीतेंगे हम , आयेगी खुशहाली बनेगा समृद्ध भारत

सतर्कता ही सक्रियता, सुरक्षा, शक्ति की पूजा है साधना है

सतर्कता ही संयम, अनुशासन से अभेद्य लक्ष्य की आराधना है

   जय भारत - सतर्क भारत      
           समृद्ध भारत

       चंन्द्र प्रकाश गुप्त "चंन्द्र"
        अहमदाबाद , गुजरात

****************************
मैं चंन्द्र प्रकाश गुप्त चंन्द्र अहमदाबाद गुजरात घोषणा करता हूं कि उपरोक्त रचना मेरी स्वरचित मौलिक एवं अप्रकाशित है
***************************

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें