शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2020

डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा खूबसूरत रचना#

सादर समीक्षार्थ
 साइली छंद 

1  -              दशहरा 
                 मनाते सभी
             पुतला जला कर 
                हृदय स्वच्छ 
                       करो

2     -              सभी
                    रहें प्रसन्न
               विकास हो सबका
                     जीवन बने
                          सुगम

 3     -                   हमें 
                         अब बस
                   इतना है सकून
                       पड़ोसी हैं
                           प्रसन्न

 4   -              परवरदिगार
                         इल्तजा है
                  यही सलामत रहें
                     वो जिनपे
                         यकीं

 5   -                 संस्कार
                   विचलित नहीं
                     होने देते मन
                      धैर्य सिखाते
                         सदा 

6   -                      राम
                      मंदिर बनेगा
               सब करेंगे कारसेवा
                    आना तुम
                         जरूर

 7  -                 धर्म 
                ध्वजा फहराएंगे
                 राम मंदिर बनेगा
                         ही शीघ्र 
                          अब

8   --              हौसला 
                     ही सदा
                   हो बुलंद तभी
                      मजा आता
                              है 

9  -                     हौसला
                          जीने की
                         प्रेरणा देता है
                             तुम भी
                                रखो

 10 -                   मनोबल
                           से  है
                  मिलती जीत सदा
                        करो विश्वास
                               तुम

 11 -                 मनोबल
                      के   बिना
              जीवन होता व्यर्थ
                 निश्चय जानो 
                          तुम

 12  -                 बच्चों 
                       के समान
            खिलखिलाते रहो तुम
                 दुनियाँ  सुहानी
                      लगती 



डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें