शनिवार, 10 अक्तूबर 2020

हाइकु# डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा बेहतरीन रचना#

सादर समीक्षार्थ
विधा  ---     हाइकु
 
1  -             बचपन है 
             अमूल्य उपहार
                  प्रभु प्रदत्त

 2 -               नहीं लौटेंगे
                जीवन में दोबारा
                  ये प्यारे दिन
 
3  -               मस्ती में झूमो
                 बेफिक्र होकर ही
                      डरो न तुम

 4  -             प्यार पाने को
                  आदर दो सबको
                        खुश रहोगे

 5 -             बच्चों तुम तो
               बतलाते  सबको
                 जीवन जीना 

6  -              तितली बन  
                 उड़ते  फिरो तुम
                  बच्चों के संग

7  -              बच्चों तुम को 
               देख,सभी भूलते
                     पीड़ा अपनी

8  -             वरदान से
           लगते हो सबको
                 तुम सृष्टि के

9  -            काश मैं फिर
              से बच्चा बन जाऊँ
                     सदा के लिए

10  -          नाचूँ गाऊँ मैं
             सभी बच्चों के संग
                    बेफिक्र रहूँ
                 


 डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें