मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

कवि डॉ.राजेश कुमार जैन जी द्वारा 'प्रभु की भक्ति' विषय पर हाइकु

सादर समीक्षार्थ 
विधा   -             हाइकु


 1  -        प्रभु की भक्ति 
            आनंदित करती
                 करके देखो 

2  -          डरो न कभी
             निर्भय तुम बढ़ो
                सत्य के पथ

 3 -          आशा ना छोड़
               कर्तव्य पूर्ण कर
                    सफल होगा

4  -           आसान नहीं 
             जीना दुनियाँ में तो
                     टूटते भ्रम

 5 -             सत्य का पथ
                होता बड़ा विकट
                      प्रभु प्रसन्न

 6 -             हार न मान
               निराशा दूर कर
                   विजयी होगा

 7 -          दृढ़ हो इच्छा
             बनेंगे सभी काम
                विश्वास रखो 

8 -              कर्म कर तू
             बाधाओं से न डर
                   लक्ष्य मिलेगा 

9 -           आशा- विश्वास
               रखो अपने साथ
                  मिलेगी जीत 

10 -          परिश्रम से
              सफलता मिलती
                  विश्वास करो

 11 -             जीवन मृत्यु
                 प्रभु के हाथ होती
                  क्यों डरता तू

12 -            निर्बल का तू   
               सहारा बन देख
                  शांति मिलेगी 


डॉ . राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें