शनिवार, 17 अक्तूबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा रचना

सत्य अहिंसा            स्वरचित 

       सत्य अहिंसा धर्म अपना ले
                       इससे बड़ा न धर्म है कोई 
       इसी से है तेरी   भलाई 
                       इसी से है जग में अच्छाई 
         सत्य अहिंसा धर्म अपना ले
                        इससे बड़ा न धर्म है कोई 
       सब धर्मों का सार यही है 
                         जीवन का आधार यही है 
       सबने इसकी महिमा बताई 
                          सबने इसकी महिमा गाई 
        इसी में है तेरी भलाई 
                   सब ने बस यही बात समझाई 
      चाहे गीता रामायण पढ़लो 
                     चाहे बाईबिल कुरान तुम भाई 
     सब धर्मों का सार सत्य अहिंसा 
                          इसको तुम अपनालो भाई 
      सब जीवों पर दया तुम करना 
                            सब जीवों से प्यार करो 
      सबसे  अच्छा व्यवहार करो 
                      सब में सम तुम प्राण समझना 
.      सत्य अहिंसा धर्म अपना ले
                        इससे बड़ा न धर्म है   कोई 
       जिओ और जीने दो सबको 
                         सब धर्मों का  सार   यही
      तनिक स्वाद के खातिर अपने 
                       माँसाहार ना अपनाओ भाई 
      सब में सम जीवन तुम समझो 
                        सत्य अहिंसा अपनाओ भाई 
       सत्य अहिंसा धर्म अपनाले
                       ."लक्ष्य" इसी में है तेरी भलाई 

                     निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें