गुरुवार, 5 नवंबर 2020

कवयित्री कल्पना भदौरिया"स्वप्निल" द्वारा पतिदेव विषय पर रचना

नमन मंच 
बदलाव मंच 


दिनांक -4-11-2020
विषय -पतिदेव 



मन का समर्पण भाव पतिदेव है 
प्रेम की अर्घ्य धार पतिदेव है 
सुरक्षा का कवच विश्वास   पतिदेव है 
चूड़ी की खनक कीआवाज पतिदेव है 
पैरो का महावर  श्रंगार पतिदेव है 
जन्मो का  अटल विश्वास पतिदेव है मेरे प्राणों के नाथ पतिदेव है 
माँग के सिंदूरका तेज़ पतिदेव है 
पूजा के फलों की बेल पतिदेव है 

लाल चुनर का प्रतीक पतिदेव है 
बिछुवा की अखंड प्रीत पतिदेव है 
न हारु किसी से वो जीत पतिदेव है 
मेरे मुखमंडल का तेज़ पतिदेव है 
एकलौता मिलता स्नेह पतिदेव है 
सब रिश्तों मे विशेष पतिदेव है 


कल्पना भदौरिया"स्वप्निल "
उत्तरप्रदेश

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें