मंगलवार, 24 नवंबर 2020

कवि अभिलाज जी द्वारा सुंदर रचना

बदलाव मंच की साप्ताहिक प्रतियोगिता के लिऐ दीपोत्सव विषय पर मेरी लिखी ग़ज़ल पेशेखिदमत है.

दिल भरा है दर्द से सभी की जेब खाली है.
ये दिवाली सच कहूँ नहीं भली दिवाली है.

गिर रहें हैं गुल सभी रहे शजर हैं हिल सभी.
मुस्कुरा रहीं खिज़ाऐं रोऐ आज माली है.

तीन दीप देहरी पे मैं जलाने वाली हूँ.
राम जी लखन सिया मनाने बाती बाली है.

हँस तो रहे हैं लोग फुलझड़ी जला रहे.
आँख में नमी भरी हँसी खुशी ये जाली है.

ना दिखें पटाखे ना दिखें मिठाइयाँ हमें.
चाँद मेघ में छिपा हुआ है रात काली है.

इस जहाँ के पाप राम जी बिसार दो.
दो रहम की भीख ये जहाँ बना सवाली है.

दिल भरा है दर्द से सभी की जेब खाली है.
ये दिवाली सच कहूँ नहीं भली दिवाली है.

*अभिलाज*
मुंबई से.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें