सोमवार, 23 नवंबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन धनबाद द्वारा 'विधि' विषय पर रचना

आओ साथिया करें मुकाबला 
                   विधि के विधान   का । 
        यहीं रास्ता हो  सकता    है 
                  कोरोना से निदान  का । 
       घर घर में  भगवा   फहरा दो 
                    महावीर    हनुमान  का । 
    जय पवन पुत्र   हनुमान संकट मोचन भगवान ॥  

      पड़े कष्ट जब जब भक्तों पर 
                   कष्ट मिटाने   आते है  । 
        ना जाने किस रूप में भगवन 
                     कहाँ प्रगट   होजाते है । 
      जय संकट मोचन हनुमान जय जय हनुमान ॥ 

         कभी राम संग कभी श्याम संग 
                      बम बम भोला   आते है । 
         बढ़ते है जब जब पाप   धरा पर 
                         पाप मिटाने    आते  है ॥ 
     जय पवन पुत्र हनुमान जय महावीर  हनुमान ॥ 
           पड़े कष्ट भक्तों पर फिर 
             हनुमान दौड़े  आएंगे । 
             ना जाने किस रूप में फिर 
               संजीवनी  बूटी लाएंगे । 
       जय पवन पुत्र हनुमान संकट मोचन भगवान ॥ 
            
               घर घर में भगवा लहरा दो 
                 महावीर    हनुमान का । 
     जय जय हनुमान जय पवन पुत्र हनुमान ॥ 

  स्वरचित ....              निर्दोष लक्ष्य जैन धनबाद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें