गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

कवि रामबाबू शर्मा द्वारा 'नारी की महिमा' विषय पर रचना

हाइकु..
        नारी की महिमा
     
                नारी से ही है
             पहचान जगत में
                महिमा जानें ।
           
                कभी न टूटे
             सरल कोमलता
               लक्ष्मी महिमा ।
           

               तीर्थ समान
             समझे सब बात
              सेवा क्यों नहीं ।
           
               जीवन लीला
             टूटे नही विश्वास
                यही संस्कार ।
          
                सर्व गुणों की
              यह मात स्वरूपा
                महिमा न्यारी ।
          
                पूजा की थाली
              यह बात निराली
                 मन को भाती ।
        
       ©®
          रामबाबू शर्मा,राजस्थानी,दौसा(राज.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें