रविवार, 27 दिसंबर 2020

सविता मिश्रा जी द्वारा अद्वितीय रचना#बदलाव मंच#

मंच नमन
बदलाव मंच (राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय)साप्ताहिक  काव्य /काव्य गद्य प्रतियोगिता हेतु रचना 
 विषय - आत्म निर्भर भारत की उड़ान
          विज्ञान एवं तकनीक में योगदान
विधा - गद्य लेखन
दिनांक - 19 -12-2020  
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारा देश भारत अब दिन दुगुनी रात चौगुनी उन्नति कर रहा है l जिसका मुख्य कारण  भारत के हर क्षेत्र में विज्ञान और तकनीक का योगदान है l 

आज हर क्षेत्र में हमारा देश भारत उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहा है l शिक्षा के क्षेत्र में ऑनलाइन कक्षाएं होने से विद्यार्थियों को शिक्षा प्राप्त हो रहीं हैं l और विद्यालय, विश्वविद्यालय, महाविद्यालय अपना शैक्षिक कार्य भी आसानी से कर रहे हैं l जिससे शिक्षा का कार्य कोरोनाकाल में आसानी से और सुव्यवस्थित रूप से चल रहा है l ऑनलाइन सामान की बिक्री और खरीदारी भी आसानी से होने के कारण जीवन आरामदायक हो गया है l चिकित्सक के क्षेत्र में नई - नई मशीनें आने से बड़ी से बड़ी बीमारी का पता लगाना और उनका उपचार करना आसान कार्य हो गया है l कृषि क्षेत्र में नई - नई  मशीनों के निर्माण होने के कारण खेती का काम आसान हो गया है l जिससे अच्छी पैदावार हो रहा है l खेल के क्षेत्र में भी हमारा देश उन्नति कर रहा है l हम घर बैठे देश - विदेश में हो रहे मैचों का आसानी से सजीव प्रसारण देख रहे हैं l बाद में मैचों की रिकॉर्डिंग भी देख सकते हैं l रोजगार के अवसर बढ़ने के कारण युवाओं को आगे बढ़ने का अवसर भी मिल रहा है l 

सभी क्षेत्रों में भारत का विकास और उन्नति का मुख्य कारण विज्ञान और तकनीकी सहयोग है l विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास के कारण ही भारत एक शक्तिशाली देश के रूप में आगे बढ़ रहा है l अब भारत  किसी भी तरह की चुनौती का सामना कर सकता है l जो कि विज्ञान और तकनीक में उन्नति के कारण सम्भव हुआ है l चंद्रयान का परीक्षण भी विज्ञान के कारण ही हुआ है l भारत आजकल कोरोना वैक्सीन का निर्माण का काम भी कर रहा है जिसमें विज्ञान और तकनीक का विशेष योग है l विज्ञान और तकनीक में शिक्षा हासिल कर हमारे देश के अभियंता, चिकित्सक, वैज्ञानिक, देश - विदेश में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं l जिससे भारत को अपनी एक अलग पहचान मिल रहीं हैं l 

अंत में संक्षेप में कहा जा सकता है कि  आज विज्ञान और तकनीक योगदान के कारण ही भारत आत्मनिर्भर की उड़ान भर रहा है l विश्व के पटल पर एक सशक्त, समृद्ध और शक्तिशाली देश के रूप में उभर रहा है l और विश्व में अपनी शक्तियों, ताकतों और पहचान का लोहा मनवा रहा है l 

जय हिंद .. जय भारत.. 

सविता मिश्रा (शिक्षिका, समाजसेविका और साहित्यकार) 
वाराणसी उत्तर प्रदेश 
स्वरचित और मौलिक गद्य लेख

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें