शुक्रवार, 1 जनवरी 2021

आत्मनिर्भर भारत मे विज्ञान,विज्ञापन और तकनीकों की मदद्#वीना आडवानी#

*आत्मनिर्भर भारत मे विज्ञान,विज्ञापन और तकनीकों की मदद्*
आज भारत देश को आत्मनिर्भर बनाने मे जितना मानव एकता का योग्दान है उतना ही योगदान आज के समय मे मिडिया, विज्ञापन,नवीन आधुनिक तकनीकी, नवीन आधुनिक सोच का भी है।
        भारत देश की आधुनिकता आज देखने को मिलती है भारत देश खुद अपने ही देश के वैज्ञानिकों व्दारा जहां बड़े-बड़े राकेट,हवाई जहाज, टेंकर,बम,मिसाइले इत्यादि वस्तुएं जहां खुद बना रहा है वहीं विज्ञापन प्रसारण व्दारा बनाई गई देश व्दारा आधुनिक वस्तुओं का प्रचार कर उन्हें बताया जा रहा है आज घर-घर मे टेलीविजन उपलब्ध है टेलीविजन के माध्यम से घर -घर छोटी से बड़ी हर एक जानकारी पाके लोग उस वस्तु से परिचित हो उसे खरीद रहे हैं।
    जो असंभव था उसे भी आज भारत देश के अंतर्गत ही स़भव कर सभी देशों को अचंभित कर डाला है वो दिन भी याद है जब भारत देश सिर्फ़ गुलाम बन के रह गया था वो चाह कर के भी कुछ न कर पा रहे थे खैर हमारे वीर शहीदों को नमन जिन्होंने देश को आजाद करवा के उसे आज इस मुकाम तक पहुंचाया है। 
   आज हमारे देश मे ही सुई से लेकर बड़े बड़े जहाजों का निर्माण हो जाता है अब भारत देश केवल विदेशों पर निर्भर नहीं है भारत देश अपने ही अंदर सीमित संसाधनों से भी ऊंचे मुकाम को हासिल कर चुका है।
     आज देखो तो कृषि क्षेत्र मे भी नैसर्गिकता,लहलहाती फसलें,सरसों की बालियां,गेहूं की सुनहरी धान जैसे धरती का श्रृंगार कर रहें हैं भारत देश की कृषि संसाधनों मे आज इतने अधिक और नवीन आधुनिक करणों का इस्तेमाल होने लगा है की हर एक सफलता का परचम कृषि क्षेत्र मे भी लहलहा रहा है आज खेती के आधुनिक करण संसाधनों से भी विज्ञापन व्दारा परिचय करवा जाता है ,खाद हो या ,थरेशिंग मशीन,या कोई भी नवीन तकनीकी जिससे खेती मे हर एक श्रमिक इस्तेमाल कर इज़ाफा पा सके अब तो सरकार व्दारा कितनी अधिक सुविधाऐं कृष्क को उपलब्ध करवा के हमारे भारत देश के भविष्य को बेहतर कर रहें हैं।
    आज शिक्षा के क्षेत्र मे भी हमारे मोबाईल व्दारा ही तकनीकी प्रयोग से ही देखिये बच्चे इस महामारी मे थी शिक्षा से वंचित न रह पाये घर बैठे ही शिक्षा की वो तमाम सुविधा बच्चों को उपलब्ध कराई जा रही है घरों मे ही बच्चों को मिल रहे स्कूल जैसा माहौल के कारण किसी भी प्रकार की दुविधा नहीं हुई।आज अगर देखा जाऐ तो हमारे गुगल,या कई लर्निंग एप्प जैसे बाऐज़ूस,वैदांतु इत्यादि ने शिक्षा के क्षेत्र मे नवीन कांति ला दी है।हर एक जानकारी हमें यू-टयूब,गुगल के माध्यम से मिल जाती है वाकई आज महामारी की आपदा मे स्कूलों का भी बहुत योगदान रहा है शिक्षिकाओं के बेहतरीन सहयोग,और प्यार भरे आचरण के व्दारा हमारे बच्चे अपने एक साल(2020)के खराब होने से बच गये।
    सच सही मानव की चुनावी रणनीति के अंतर्गत हमारे देश की बागदौड़, अर्थव्यवस्था, विज्ञान क्षेत्र यहाँ तक की स्कूलों, अस्पताल,औध्योगिक क्षेत्र हर एक क्षेत्र मे सफलता मिली है देश को, देश के हित मे लिये हर एक फैसले सही व्यक्ति व्दारा लेके देश को आज इस काबिल बना दिया है की आज भारत देश गर्व से विदेशी देशों के साथ कांधे से कांधा मिला खड़ा नज़र आ रहा है।सलाम है हमारे हर एक वैज्ञानिकों को,छोटे से बड़े घरेलू उधयोगों को भी जो हर एक सुविधा हमें उपलब्ध करा रहें हैं।
      भारत देश यूंही सदैव सफलता की राह पे आधुनिक और विज्ञापन, विज्ञान के माध्यम और देश के वासियों के सहयोग से सदैव आगे बढ़के विदेशों के बराबर रहे।यही दिली अभिलाषा है ।

वीना आडवानी
नागपुर, महाराष्ट्र
**************

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें