रविवार, 3 जनवरी 2021

अरविन्द अकेला जी द्वारा अद्वितीय रचना#

कविता 

  अभिनंदन तुम्हारा 2021
--------------------------
स्वागत,वंदन,अभिनंदन  तुम्हारा 2021,
आओ-आओ हम सबके प्यारे नये साल,
रखना सलामत हम सभी को,
रखना सभी को सदा खुशहाल।
     आओ आओ हम सबके...।

हम सबकी उम्मीदें हैं बहुत बड़ी,
पूछेंगे लोग तुमसे कई सवाल,
दगा नहीं देना कभी हम सबको,
नहीं हो कभी तुमसे शिकवा मलाल।
     आओ आओ हम सबके...।

मिल जाये नौकरी सभी को नये साल में,
रहें सभी जन खुश हर हाल में,
नहीं हो किसी की माँग यहाँ सुनी,
नहीं हो 2020 के जाने का मलाल।
     आओ आओ हम सबके...।

रहे तेरी-मेरी यह दुनियाँ सलामत,
कभी नहीं हो किसी का जीवन बदहाल,
रहें स्वस्थ्य जग के जीव, जंतु,मानव।
नहीं हो किसी का बहुत बुरा हाल।
    आओ आओ हम सबके...।
    ---------000-------
          अरविन्द अकेला

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें