बुधवार, 23 जून 2021

सुखमिला अग्रवाल जी द्वारा#अगला वर्ष#

साप्ताहिक प्रतियोगिता के तहत
दिनांक-31/12/2020,
गुरूवार
विषय-आंग्ल वर्ष
शीर्षक-*आयी भोर सुहानी*
सुस्वागतम् नव वर्ष ...
दोहे 
•••••••••••••••••••••••••
कुछ इस तरहा से चला,यह पुराना साल।
जैसे हो मजबूर सा,चल रहा कुटिल चाल।१।

बहुत तडपाया तुमने,बेदर्द रचा भेष।
सुख चैन सब छीन लिया, छोडा न हर्ष शेष।२।

घर घर पहुँच किया वार,कैसी तेरी नीत।
तेरा भी कर शुक्रिया,छूटें लेकर सीख।३।

अब ना और तू तडपा,वापस ले उपहार।
*भोर नयी अब आ रही,लिये खुशियाँ अपार।४।*

•••••••••••••••••••••••••
    सुखमिला अग्रवाल
    स्वरचित मौलिक 
   सर्वअधिकार सुरक्षित्

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें