मंगलवार, 29 सितंबर 2020

निर्मल जैन 'नीर' जी द्वारा रचना “किसान"

किसान....
*******************
करो वंदन~
धरती पुत्र तेरा
अभिनंदन
स्वेद बहाता~
कड़ी मेहनत से
अन्न उगाता
मन की पीड़ा~
भीतर ही भीतर
करती क्रीड़ा
मुस्कुराता है~
अकेला तूफानों से
लड़ जाता है
कैसा विधान~
भूख से व्याकुल है
आज किसान
*******************
     निर्मल जैन 'नीर'
   ऋषभदेव/उदयपुर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें